* Advertisement


Author Topic: ਕਿੰਝ ਪਿਆਰ ਨਾ ਕਰਾਂ....  (Read 1548 times)

Offline Ghotra Singh

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 74
  • Karma: +0/-0
  • Dhol Radio Listener
    • View Profile
ਕਿੰਝ ਪਿਆਰ ਨਾ ਕਰਾਂ....
« on: September 06, 2015, 08:02:52 AM »
ਹੰਜੂ ਪੂੰਝ ਕੇ ਮੈਨੂੰ ਹਰ ਵਕ਼ਤ ਹਸਾਇਆ ,
.
ਮੇਰੀ ਕਮੀਆਂ ਨੂੰ ਛੱਡ ਮੈਨੂੰ ਗਲ ਨਾਲ ਲਾਇਆ,,
.
 ਕਿੰਝ ਪਿਆਰ ਨਾ ਕਰਾਂ ਮੈਂ ਆਪਣੀ ਦੀਪ ਨੂੰ ,
.
ਜੀਹਦੇ ਸਾਥ ਨੇ ਹੈ ਮੈਨੂੰ ਜੀਨਾ ਸਿਖਾਇਆ , (rose)
           
             
« Last Edit: September 08, 2015, 11:56:22 AM by Arshdeep Singh (Rajasthan) »

charandeep

  • Guest
Re: ਕਿੰਝ ਪਿਆਰ ਨਾ ਕਰਾਂ....
« Reply #1 on: September 06, 2015, 09:11:31 AM »
Ye Yaad Hai Tumhari Ya Yaadon Mein Tum Ho,
Ye Khwab Hain Tumhare Ya Khwabon Mein Tum Ho,
Hum Nahi Jaante Humein Bas Itna Bata Do,
Hum Jaan Hain Tumhari Ya Hamari Jaan Tum Ho!..
« Last Edit: September 08, 2015, 11:56:44 AM by Arshdeep Singh (Rajasthan) »

Offline Ghotra Singh

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 74
  • Karma: +0/-0
  • Dhol Radio Listener
    • View Profile
Re: ਕਿੰਝ ਪਿਆਰ ਨਾ ਕਰਾਂ....
« Reply #2 on: September 07, 2015, 04:35:08 AM »
Words r few  but my love is true .
Feelings r old of you I am so fond
« Last Edit: September 08, 2015, 11:57:03 AM by Arshdeep Singh (Rajasthan) »

charandeep

  • Guest
Re: ਕਿੰਝ ਪਿਆਰ ਨਾ ਕਰਾਂ....
« Reply #3 on: September 09, 2015, 05:23:08 PM »
Sirf najdikiyo se mohabbat hua nahi karti,
Fasle jo dilon me ho to fir chahat hua nhi karti
Agar naraz ho khafa ho to shikayat karo hamse
Khamosh rahne se dilo ki duriya mita nhi karti.

charandeep

  • Guest
Re: ਕਿੰਝ ਪਿਆਰ ਨਾ ਕਰਾਂ....
« Reply #4 on: September 09, 2015, 05:25:14 PM »
Kaho toh phool ban jaaun,
Tumhari zindagi ka asool ban jau,
Suna hai rait pe chal ke tum mehak jate ho,
Kaho to abki baar zameen ki dhool ban jau,
Bahut nayab hote hai jinhe tum apna kahte ho,
Ijazat do ki main bhi is qadar anmol ban jaau.

Offline Ghotra Singh

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 74
  • Karma: +0/-0
  • Dhol Radio Listener
    • View Profile
Re: ਕਿੰਝ ਪਿਆਰ ਨਾ ਕਰਾਂ....
« Reply #5 on: September 09, 2015, 06:24:44 PM »
Mere wajood mein kaash tu utar jaye,
Main dekhu aaina or tu nazar aaye,
Tu ho samne aur ye waqt thehar jaye
Ye zindagi tujhe dekhte hue guzar jaye
 (hug)  (pray1)

charandeep

  • Guest
Re: ਕਿੰਝ ਪਿਆਰ ਨਾ ਕਰਾਂ....
« Reply #6 on: September 10, 2015, 02:00:16 PM »
जो मुस्कुरा रहा है, उसे दर्द ने पाला होगा,
जो चल रहा है, उसके पाँव में छाला होगा,
बिना संघर्ष के इन्सान चमक नही सकता, यारों
जो जलेगा, उसी दिये में तो उजाला होगा…।


 

 

 
न किसी का फेंका हुआ मिले,
न किसी से छिना हुआ मिले,
मुझे बस मेरे नसीब में, लिखा हुआ मिले,
ना मिला ये भी, तो कोई गम नहीं,
मुझे बस मेरी मेहनत का, किया हुआ मिले.


 
इस उम्मीद से मत फिसलो,
कि तुम्हें कोई उठा लेगा !!

सोच कर मत डूबो दरिया में,
कि तुम्हें कोई बचा लेगा…!!

ये दुनिया तो एक अड्डा है,
तमाशबीनों का दोस्तों,

गर देखा तुम्हें मुसीबत में तो
यहां हर कोई मज़ा लेगा…!!!


 
हाथ में उसको कलम का आना अच्छा लगता है
उसको भी स्कूल को जाना अच्छा लगता है
बड़ा कर दिया मजबूरी ने वक्त से पहले वरना
सर पर किसको बोझ उठाना अच्छा लगता है !!


 

रिमझिम तो है मगर सावन गायब है,
बच्चे तो हैं मगर बचपन गायब है..!!
क्या हो गयी है तासीर ज़माने की यारों
अपने तो हैं मगर अपनापन गायब है !


 
वक़्त की हो धूप या तेज़ हो आँधियाँ,
कुछ क़दमों के निशाँ कभी नहीं खोते,
जिन्हें याद करके मुस्कुरा दें ये आँखें,
वो लोग दूर होकर भी दूर नहीं होते..!!


 
जब मुल्ला को मस्जिद में राम नजर आएजो मुस्कुरा रहा है, उसे दर्द ने पाला होगा,
जो चल रहा है, उसके पाँव में छाला होगा,
बिना संघर्ष के इन्सान चमक नही सकता, यारों
जो जलेगा, उसी दिये में तो उजाला होगा…।


 

 

 
न किसी का फेंका हुआ मिले,
न किसी से छिना हुआ मिले,
मुझे बस मेरे नसीब में, लिखा हुआ मिले,
ना मिला ये भी, तो कोई गम नहीं,
मुझे बस मेरी मेहनत का, किया हुआ मिले.


 
इस उम्मीद से मत फिसलो,
कि तुम्हें कोई उठा लेगा !!

सोच कर मत डूबो दरिया में,
कि तुम्हें कोई बचा लेगा…!!

ये दुनिया तो एक अड्डा है,
तमाशबीनों का दोस्तों,

गर देखा तुम्हें मुसीबत में तो
यहां हर कोई मज़ा लेगा…!!!


 
 
हाथ में उसको कलम का आना अच्छा लगता है
उसको भी स्कूल को जाना अच्छा लगता है
बड़ा कर दिया मजबूरी ने वक्त से पहले वरना
सर पर किसको बोझ उठाना अच्छा लगता है !!



रिमझिम तो है मगर सावन गायब है,
बच्चे तो हैं मगर बचपन गायब है..!!
क्या हो गयी है तासीर ज़माने की यारों
अपने तो हैं मगर अपनापन गायब है !


 

वक़्त की हो धूप या तेज़ हो आँधियाँ,
कुछ क़दमों के निशाँ कभी नहीं खोते,
जिन्हें याद करके मुस्कुरा दें ये आँखें,
वो लोग दूर होकर भी दूर नहीं होते..!!


 

जब मुल्ला को मस्जिद में राम नजर आए,
जब पंडित को मंदिर में रहमान नजर आए,
सुरत ही बदल जाए इस दुनिया की गर..
इंसान को इंसान में इंसान
जब पंडित को मंदिर में रहमान नजर आए,
सुरत ही बदल जाए इस दुनिया की गर
इंसान को इंसान में इंसान नजर आए….।।

charandeep

  • Guest
Re: ਕਿੰਝ ਪਿਆਰ ਨਾ ਕਰਾਂ....
« Reply #7 on: September 15, 2015, 09:27:11 PM »
Woh khush hai par shayad hum se nahi
Woh naraz hai par shayad hum se nahi
Kon kehta hai unke dil me mohabbat nahi
Mohabbat to hai par shayad humse nahi.!!

charandeep

  • Guest
deep ghotra
« Reply #8 on: September 15, 2015, 09:29:32 PM »

Woh khush hai par shayad hum se nahi
Woh naraz hai par shayad hum se nahi
Kon kehta hai unke dil me mohabbat nahi
Mohabbat to hai par shayad humse nahi.! (gcry2) (gcry2)

charandeep

  • Guest
deep ghotra
« Reply #9 on: September 15, 2015, 09:31:41 PM »
 (tongue3) Khud se jayada bharosa na karna,
kisi se tum mohobbat na karna,
Kynki...
Rulati hai mohobbat, tadpaati hai mohobbat,
ur fir chod jaati hai mohobbat...
..
..
Don't Fall in love..!;; (gcry2) (gcry2)

charandeep

  • Guest
deep ghotra
« Reply #10 on: September 15, 2015, 09:46:25 PM »
Kisi Din Teri Nazro Se Dur Ho Jayenge Hum
Dur Fizaon Me Kahi Kho Jayenge Hum
Meri Yaadon Se Lipat Ke Rone Aaoge Tum
Jab Zameen Ko Odh Ke So Jayenge Hum

charandeep

  • Guest
deep ghotra
« Reply #11 on: September 15, 2015, 09:49:18 PM »
Hamara Kya Hai Hum To Gamo Me Bhi Jee Lenge Sanam,
Tum Apni Socho Kaise Sambhaloge Jab Paas Na Honge Tumhare Hum.



charandeep

  • Guest
deep ghotra
« Reply #12 on: September 15, 2015, 09:51:40 PM »
Bichad gaye hai jo unka sath kya mangu,
zara si umar hai gam se nijat kya mangu,
wo sath hote to hoti zarurate bhi hume,
Akeli jaan ke liye kaynat kya mangu.!!!god bless him

Offline Ghotra Singh

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 74
  • Karma: +0/-0
  • Dhol Radio Listener
    • View Profile
Re: ਕਿੰਝ ਪਿਆਰ ਨਾ ਕਰਾਂ....
« Reply #13 on: September 17, 2015, 04:32:27 AM »
Tu sajjna Bas hath fad layi Mera ,
.
.
Phir  Khushi mile ya ghum .
Baki Mera naseeb  hai ,
 (hug)  (giheart)  (rose)

charan ghotra

  • Guest
ਕਿੰਝ ਪਿਆਰ ਨਾ ਕਰਾਂ.... deep kaur
« Reply #14 on: October 08, 2015, 07:11:34 PM »
Ek shaam aati hai tumhari yaad lekar,
Ek shaam jaati hai tumhari yaad dekar,
Par hume intezaar hai us shaam ka,
Jo aaye sirf tumhe saath  lekar . ....


Koi achi si SAZA do mujhko,
Chalo aisa karo BHULLA do mujhko,

Apne DIL me basi TASVIR meri,
Aisa karo JALA do usko,

Meri WAFA pe agar SHAK hai tumko,
Tu phir NAZAR se gira do mujh ko,

Muddat hogai hai tere HIJR me jagte howe,
Apni sanso ki HARARAT se sula do mujhko,

Kuch tu TARAS karo apne DIWANE per,
JAAM na sahi ZEHER hi pila do mujhko,

Tum se bichron tu MOUT aa jai mujhko,
Dil ki Gehrayon se aisi DUA do mujhko.




Bahot Ajib Hoti Hai Ye Yaade Bhi Mohabbat Ki,
Jin Palo Me Hum Roye The,
Unhein Yaad Karke Hume Hansi Aati Hai,
Or Jin Palo Me Hanse The,
Unhe Yaad Karke Rona Aata Hai..!!




Main Dua Mein Tujhe Manga Hai,
Magar Wafa Se Manga Hai..!!
Kabhi Sajde Mein Jakar Pucho Apne Rab Se,
K Maine Kis Kis Ada Se Tumhe Manga Hai..!!
A..... (pkab) ok  g